अगर आप ‘सफल यूट्यूबर’ बनना चाहते हैं तो न करें ये ‘गलतियां’

आज के समय में वीडियो बनाना बेहद आम हो गया है, लेकिन वीडियो बनाते समय लोग बहुत सी बारीकियों पर ध्यान नहीं देते जिस कारण वीडियो अच्छा नहीं बनता और उस पर व्यूज भी नहीं आते. तो आज हम उन्हीं गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं जो वीडियो बनाते समय नहीं करनी चाहिए:

Credit: RhinoCameraGear / youtube


लैंस की तरफ देखें (Look at the lens)

अमूमन नए यूट्यूबर्स वीडियो बनाते समय DSLR कैमरे के व्यूव फाइंडर (http://prntscr.com/m4bx20) की तरफ देखकर बोलते हैं. वीडियो शूट करते समय कैमरे के लैंस की तरफ देखना चाहिए. इसका फायदा ये होता है कि जब आप कैमरे के लैंस पर देखते हैं तो आपके व्यूवर को लगता है कि आप उससे बात कर रहे हैं.
यदि आप व्यूव फाइंडर की तरफ देखकर बोलते हैं तो आपकी आखे लैंस से ऊपर होती है ऐसे में व्यूवर को लगता है कि आप ऊपर देखकर बोल रहे हैं. जिसका परिणाम यह होता है कि व्यूवर आपको ज्यादा समय तक नहीं देखता, उससे आपका ऑय-कांटेक्ट नहीं बन पाता.

Credit: seoclerk.com

लोगों से कमेंट में बात करें ताकि एंगेजमेंट बढ़े (Reply on comments)

अगर आपने वीडियो बनाकर यूट्यूब और फेसबुक पर डाल दिया है तो उसको वहीं पर न छोडे़ं. अपने वीडियो पर आ रहे कमेंट्स पर भी नज़र रखें और कमेंट्स के जवाब देने की कोशिश करें. इससे आप लोगों से जुड़ जाते हैं, वीडियो ज्यादा एंगेजिंग हो जाता है. साथ ही आपको अपनी विडियो के बारे में क्वालिटी फीडबैक भी मिल जाता है.

अच्छा टाइटल दें (Give proper title)

अक्सर लोग वीडियो तो अच्छा बनाते हैं लेकिन फिर भी उनकी वीडियो पर व्यूज नहीं आते. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वह अपनी वीडियो का टाइटल गलत डाल देते हैं या फिर ऐसा टाइटल डाल देते हैं जिन्हें ज्यादा नहीं खोजा जाता. इसलिए वीडियो बनाने के बाद उसका टाइटल डालते समय ख़ास ध्यान जरूरी हो जाता है.

थम्बनेल (Thumbnail)

थम्बनेल बनाने में थोड़ी मेहनत करें. जितना अच्छा थम्बनेल होगा उतना आपके वीडियो के व्यूज बढ़ने के चांसेस होंगे. अगर आपको फोटोशॉप आदि चलाना नहीं आता तो आप Canva की मदद से थम्बनेल बना सकते हैं. जो भी फोटो थम्बनेल के लिए चूज करें, उसकी पिक्सेल कम नहीं होनी चाहिए और देखने में वह ऐटरेक्टीव लगनी चाहिए.

वीडियो समय-समय पर डालते रहें (Consistency is King for youtube)

बहुत से यूट्यूबर्स ज्यादातर यह गलती करते हैं. कुछ दिन तो वह रोज-रोज या फिर जल्दी-जल्दी वीडियो डालते हैं उसके बाद रुक जाते हैं. जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए. वीडियो को हमेशा एक समय अंतराल के अनुसार ही डालना सही रहता है. यह समय अंतराल आप अपनी सुविधा के अनुसार तय कर सकते हैं. अगर आप सप्ताह में एक बार वीडियो बनाने में सक्षम हैं तो हर सप्ताह एक ही वीडियो डालें. आप सप्ताह का कोई एक दिन भी चुन सकते हैं जैसे कि बुधवार. इससे फायदा यह होता है कि आपके सब्सक्राइबर को पता होता है कि आपका नया वीडियो कब-कब आता है. यह करने से आपके सब्सक्राइबर आपके साथ लम्बे समय तक जुड़े रहते हैं और आपके वीडियो नम्बर भी धीरे-धीरे बढ़ते रहते हैं.

कमजोर इन्ट्रो (Weak Intro)

वो कहते हैं न फर्स्ट इंमप्रेशन इज द लास्ट इंमप्रेशन!
वीडियो में भी यह लागू होता है. जब भी आप वीडियो बनाएं तो उसके इंट्रो को मजबूत रखें, ताकि आपका व्यूवर वीडियो को देखने के लिए उत्सुक हो जाए. आप इसके लिए वीडियो की शुरुआत किसी प्रश्न से कर सकते हैं. जैसे कि क्या आपने इस फलानी चीज़ के बारे में सुना है, क्या आप इसके बारे में जानते हैं... वगैरह-वगैरह!

ख़राब बैकग्राउण्ड (Bad Background)

वीडियो शूट करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें कि उसका बैकग्राउण्ड कैसा है. क्या बैकग्राउण्ड में कोई ऐसी चीज तो नहीं है जो डिस्ट्रैक्ट कर रही है. अगर कोई ऐसी चीज है तो उसे बैकग्राउण्ड से हटा दें. वैसे DSLR कैमरे के कई लेन्सेस में बैकग्राउंड ब्लर की सुविधा होती है और आप इसका प्रयोग कर सकते हैं. अगर आप नया कैमरा खरीदना चाहते हैं तो इन तमाम आवश्यक चीजों पर पहले ही निगाह डाल लें.


ऑडियो, वीडियो और लाइट (AVL - Audio Video And Light)

एक अच्छा वीडियो बनाने के लिए ये तीनों चीज़ें काफी महत्वपूर्ण हैं. ऑडियो, वीडियो और प्रोपर लाइटिंग की वजह से आपकी वीडियो की क्वालिटी में जबरदस्त निखार आता है. अगर आप एचडी में वीडियो शूट करते हैं लेकिन उस वीडियो का ऑडियो ही अच्छा नहीं होगा तो व्यूवर उसे देखना पसन्द नहीं करेगा. इसलिए वीडियो बनाते समय अच्छे माइक का इस्तेमाल करें. इससे आपकी वीडियो की क्वालिटी और बढ़ जाएगी.

लो एनर्जी (Low Energy)

जब भी वीडियो बनाएं तो अपनी एनर्जी का ख़ास ख्याल रखें. वीडियो में अगर आपकी एनर्जी हाई होगी तो व्यूवर आपको देखेगा. एनर्जी लो होने पर हो सकता है कि आपका व्यूवर आपको न देखे. इसका मतलब ये बिल्कुल भी नहीं है कि आप हमेशा अपनी एनर्जी हाई ही रखें, परिस्थिति के हिसाब से आप इसे कम अधिक कर सकते हैं.

जल्दी मोनेटाइजेशन (Early Monetisation)

अक्सर बहुत से यूट्यूबर वीडियो को जल्दी मोनेटाइज करना शुरू कर देते हैं, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए. कभी भी शुरुआत में वीडियो को मोनेटाइज करने की गलती न करें बल्कि, पहले अपने व्यूवर को बिना किसी रुकावट के वीडियो देखने दें. मोनेटाइजेशन से पहले अपने चैनल की पहचान बनाने पर जोर दें उसके बाद जब आपके पास अच्छे-खासे सब्सक्राइबर हो जाएं तब आप अपने चैनल को मोनेटाइज करें.

धैर्य रखें (Patience)

अगर आपको मेरॉथन की तरह लम्बी दौड़ दौड़नी है तो धैर्य रखना पड़ेगा. इसलिए न तो ज्यादा तेज दौड़ें और न ही बहुत जल्दी सफलता की उम्मीद करें. हो सकता है यूट्यूब पर आपका कोई वीडियो वाइरल हो जाए और ये भी हो सकता है कि बहुत अच्छा कंटेन्ट होने के बावजूद आपके वीडियो पर व्यूज न आएं. ऐसी स्थिति में निराश होने से बचें.

कॉपीराइट फ्री म्यूजिक (Royalty Free Music)

अक्सर लोग कहीं से भी, कोई म्यूजिक डाउनलोड कर लेते हैं और उसे अपनी वीडियो में लगा लेते हैं. ऐसा करने से उनके चैनल के ऊपर कॉपीराइट आ जाता है. इसलिए हमेशा यूट्यूब की Audio Library से ही म्यूजिक इस्तेमाल करें. यहां सभी म्यूजिक फ्री में मिल जाते हैं.

तो ये थीं कुछ महत्वपूर्ण बातें जो वीडियो बनाते हुए ध्यान रखनी चाहिए. अगर कोई प्वॉइंट हो जो इसमें जोड़ा जा सकता है तो हमें कमेंट बाक्स में जरूर बताएं या मुझे मेल कर सकते हैं: y@zmu.in.
Web Title: Become a Successful YouTuber do not do these mistakes, Hindi Article
Keywords: advice for new youtubers, advice for beginner youtubers, tips for new youtubers, tips and tricks for new youtubers, youtube beginners guide, video influencers

No comments:

Post a Comment

Pages